मिसमैनेजमेंट के चलते सड़ गई 28 करोड़ की प्याज

भोपाल। रूठे किसानों को मनाने के लिए सरकार ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर 8 रुपए प्रति किलो की दर से 7.50 लाख टन तो ली, लेकिन जिला स्तर पर इसको रखने की सही व्यवस्था न होने से 33 हजार टन प्याज सड़ गई है। इसकी कीमत 28 करोड़ से अधिक है। स्टेट सिविल सप्लाइज कॉर्पोरेशन के ये आंकड़े 5 जुलाई तक के हैं। आला अफसरों का आरोप है, कलेक्टर प्याज के रखने का प्रबंधन नहीं कर पाए। गौरतलब है कि धार कलेक्टर श्रीमन शुक्ला ने शासन को पत्र लिखकर सड़ी हुई प्याज को नष्ट करने की अनुमति मांगी थी। इस पर कॉर्पोरेशन के एक जीएम स्तर के अफसर का कहना है, शासन को कलेक्टर से ही स्पष्टीकरण मांगना चाहिए कि प्याज क्यों सड़ी?

सड़ गई, तब पहुंचा रहे दुकानों पर

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने घोषणा की थी कि इसे पीडीएस की दुकानों पर 2 रुपए किलो में बेच दो। फिर भी अधिकारियों की सुस्ती के कारण पीडीएस दुकानों पर प्याज नहीं पहुंच सकी। अब प्याज बारिश में भीगकर सड़ने जा रही है तब उसे पीडीएस दुकानों तक पहुंचाने का काम शुरू किया गया है।

Be the first to comment on "मिसमैनेजमेंट के चलते सड़ गई 28 करोड़ की प्याज"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*


error: Content is protected !!